Monday, July 22, 2024
Homeमध्यप्रदेशRatlam: 'जुर्म करना पाप है, पुलिस हमारी बाप है', पुलिस की गिरफ्त...

Ratlam: ‘जुर्म करना पाप है, पुलिस हमारी बाप है’, पुलिस की गिरफ्त में आरोपियों ने लगाए नारे, जानें मामला


पुलिस की गिरफ्त में आरोपी
– फोटो : Amar Ujala Digital

विस्तार


रतलाम में तीन दिन पूर्व पुजारी के घर में घुस कर चाकू से हमला करने वाले मुख्य आरोपी सहित एक अन्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस आरोपियों को मौका मुआयना करने के लिए लेकर जा रही थी इसी दौरान पुलिस वाहन खराब हो गया जिसके बाद दोनो आरोपियों को पुलिस पैदल ही घटना स्थल पर लेकर पहुंची। आरोपियों और को देख घायल पुजारी की पत्नी जोर जोर से रोने लगी और अपनी पीड़ा व्यक्त की उन्होंने कहा की भगवान ऐसा दिन किसी को ना दिखाए इन आरोपियों के घर पर बुलडोजर चलाया जाए और इन्हे सख्त से सख्त सजा मिले।

रतलाम को स्टेशन रोड़ थाना पुलिस ने पुजारी को चाकु मारने वाले बदमाश भय्यू उर्फ यश पिता मधुसूदन मराठा निवासी भंडारी गली और रेहान पिता जब्बार खान निवासी जूनी कलालसेरी को गिरफ्तार किया है। पुलिस गिरफ्तार दोनों बदमाशों को थाने के वाहन से घटनास्थल लेकर जा रही थी इसी दौरान रास्ते में पुलिस वाहन खराब हो गया। जिसके बाद पुलिस दोनों बदमाशों को पैदल ही जुलूस निकालते हुए लेकर पहुंची। जब पुलिस दोनो बादामशों को लेकर पुजारी के घर पहुंची। तब घायल पुजारी की पत्नी की आंखों में आंसू आ गए। वह रोते बोली की इन्हें सख्त से सख्त सजा दी जाए। जो मेरे साथ हुआ है वह किसी के साथ ना हो। इनका घर पर बुलडोजर चलाया जाए। बाद में पुलिस दोनों बदमाशों के घर भी इन्हें पैदल जुलूस के रूप में ले गई। स्टेशन रोड थाने के सब इंस्पेक्टर आनंद बागवान ने बताया कि दो आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। शेष की तलाश की जा रही है। घायल पुजारी अभी उपचाररत है।

पुलिस के साथ हथकड़ी में दोनो बदमाशों को देखकर पुजारी की पत्नी ने रोरो कर पुलिस से लगाई गुहार

आंखों में आसू लिए रोते हुए पुजारी की पत्नी ने कहा कि मैंने वह हादसा कैसे देखा में जानती हुं। रात भर मेरा पति यहां चाकू खाता रहा। किसी ने नहीं सुनी…. मैं अकेली यहां चिल्लाती रोती रही। मैंने गेट जरा सा अपने पति को बचाने के लिए खोला तो इन गुंडों ने मुझ पर अटैक किया। मेरे कपड़े फाड़ दिए और मेरे को धमकी दे रहे थे। हम लोगों को अगर तुम्हारी बेटी नहीं मिली तो मैं तुम सबको मार डालूंगा। मेरा बेटा अंदर खिड़की में से चिल्लाता रहा मेरे पापा को बचा। किसी ने भी नहीं सुनी। कोई मदद के लिए आगे नहीं आया। पैदल चलते हुए दोनों बदमाश पुलिस की गिरफ्त में कहते चल रहे थे …अपराध करना पाप है, पुलिस हमारी बाप है।

ये था मामला

शहर के बिचलावास निवासी अवधेश त्रिवेदी मेहताजी का वास क्षेत्र स्थित श्री जैन श्वेतांबर कबीर साहब मंदिर के पुजारी हैं। पुजारी की बेटी से एक तरफा प्यार के चलते हिस्ट्रीशीटर भय्यू ऊर्फ यश मराठा सोमवार-मंगलवार की रात करीब 2 बजे अपने साथियों के साथ उनके घर में घुसा और दरवाजा तोड़कर पुजारी पर चाकू से हमला कर दिया था। धमकी दी की अगर तुम्हारी बेटी मुझे नहीं मिली तो जान से खत्म कर दूंगा। पुजारी ने अपनी बेटी को ग्वालियर में अपने परिवार के सदस्यों के यहां भेज दिया था। इसी से नाराज होकर बदमाश भय्यु ने पुजारी व उनके परिवार पर हमला कर दिया था। बदमाशों ने पहले घर में तोड़फोड़ की। इसके बाद त्रिवेदी सहित उनकी बुजुर्ग मां के साथ जमकर लात-घूसों से मारपीट की।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments