Home छत्तीसगढ़ Poonam Pandey Death: क्या है सर्वाइकल कैंसर? जिससे पूनम पांडेय की हुई मौत

Poonam Pandey Death: क्या है सर्वाइकल कैंसर? जिससे पूनम पांडेय की हुई मौत

0
Poonam Pandey Death: क्या है सर्वाइकल कैंसर? जिससे पूनम पांडेय की हुई मौत

सौरभ तिवारी/बिलासपुरः कैंसर एक ऐसी बीमारी है, जिसका उपचार और निदान बहुत कठिन है. यदि किसी को कैंसर हो जाता है, तो सबसे पहले तो इसका समय पर पता लगाना सबसे अहम पहलू है. तो वहीं कैंसर का सही उपचार भी बेहद जरूरी है. 1 फरवरी को सर्वाइकल कैंसर से बॉलीवुड से जुड़ी मॉडल पूनम पांडे का निधन हो गया है. तो वहीं हमने एक्सपर्ट डॉक्टर और ऑनकोलॉजिस्ट डॉ जसवंत जैन से बातचीत की, उन्होंने सर्वाइकल कैंसर से जुड़े कई पहलुओं के बारे में बताया.

बिलासपुर के डॉक्टर ऑनकोलॉजिस्ट डॉ जसवंत जैन ने बताया कि सर्वाइकल कैंसर गर्भाशय की परत में असामान्य कोशिकाओं की वृद्धि है. सबसे आम सर्वाइकल कैंसर स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा है, जो 70% मामलों में होता है. एडेनोकार्सिनोमा कम आम है और इसका निदान करना अधिक कठिन है.

लक्षण और संकेत क्या हैं?
वहीं उन्होंने बताया कि कैंसर पूर्व में आमतौर पर कोई लक्षण नहीं पैदा करते हैं. प्रारंभिक अवस्था में, सर्वाइकल कैंसर के कोई लक्षण नहीं भी हो सकते हैं. सर्वाइकल कैंसर का पहला लक्षण आमतौर पर योनि से असामान्य रक्तस्राव होता है, जो अक्सर यौन क्रिया के बाद होता है. माहमारी के बीच स्पॉटिंग या भारी रक्तस्राव हो सकता है, या माहमारी असामान्य रूप से भारी हो सकती है.

बड़े कैंसर से रक्तस्राव की संभावना अधिक होती है और योनि से दुर्गंधयुक्त स्राव और पेल्विक क्षेत्र में दर्द हो सकता है. यदि कैंसर व्यापक है, तो इससे पीठ के निचले हिस्से में दर्द और पैरों की सूजन हो सकती है. मूत्र पथ अवरुद्ध हो सकता है, और उपचार के बिना, गुर्दे की विफलता हो सकती है.

सर्वाइकल कैंसर के कारण क्या हैं?
सर्वाइकल कोशिकाओं और सर्वाइकल कैंसर में बदलाव लगभग हमेशा ह्यूमन पेपिलोमावायरस (HPV) के कारण होते हैं जो यौन संपर्क के माध्यम से संचारित होते हैं. HPV वायरस से जननांग मस्से हो सकते हैं. HPV वैक्सीन, सर्वाइकल कैंसर स्क्रीनिंग से इसका जल्द पता लगाया जा सकता है.

अगर मुख्य कारणों की बात करें तो यौन संचारित संक्रमणों के संपर्क में आने की संभावना अधिक होना (उदाहरण के तौर पर, कम उम्र में पहली बार यौन संबंध बनाना, एक से अधिक यौन साथी होना, या जिनके यौन संचारित संक्रमणों के जोखिम कारक हैं वैसे यौन साथी होना), मौखिक गर्भ निरोधकों (जन्म नियंत्रण की गोलियां) का उपयोग करना, सिगरेट पीना (धूम्रपान करना), कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली होना (कैंसर या एड्स जैसे विकार के कारण या कीमोथेरपी दवाओं या कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स जैसी दवाओं के कारण).

HPV संक्रमण से कैसे बचें
मौखिक, जननांग या गुदा संपर्क सहित किसी भी प्रकार की यौन गतिविधि के माध्यम से HPV संचारित हो सकता है. HPV संक्रमण बहुत आम है, और लगभग 80% यौन सक्रिय लोग अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार HPV संक्रमण के संपर्क में आते हैं. कई HPV संक्रमण केवल थोड़े समय तक रहते हैं, लेकिन कुछ लोग HPV से एक से अधिक बार संक्रमित हो सकते हैं, और कुछ HPV संक्रमण वर्षों तक रहते हैं.

सर्वाइकल कैंसर का उपचार ?
डॉ जसवंत जैन की मानें तो सर्वाइकल कैंसर को सही समय पर पहचानने से इसे काफी हद तक रोका जा सकता है. सर्वाइकल कैंसर का उपचार कैंसर के चरण पर निर्भर करता है. इसमें सर्जरी, विकिरण चिकित्सा और कीमोथेरपी से इलाज किया जाता है. तो अगर आपको सर्वाइकल कैंसर का कोई भी लक्षण दिखता है तो तुरंत oncologist doctor से संपर्क करें. साथ ही साथ HPV से बचाव और सुरक्षित यौन संबंध से सर्वाइकल कैंसर से काफी हद तक बचा जा सकता है.

Tags: Cervical cancer, Entertainment news., Health News, Poonam Pandey

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here