Sunday, July 21, 2024
Homeउत्तर प्रदेशनोएडा-ग्रेटर नोएडाBhangel Elevated Road : नोएडा अथॉरिटी ने सेतु निगम को दिए 42...

Bhangel Elevated Road : नोएडा अथॉरिटी ने सेतु निगम को दिए 42 करोड़, काम ने पकड़ी रफ्तार लेकिन…

Tricity Today | Symbolic Photo




Noida News : नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) की तरफ से बनाए जा रहे भंगेल एलिवेटेड रोड (Bhangel Elevated Road) का काम में अभी तेजी आई है। सेतु निगम (Setu Nigam) की मांग को पूरा करने के बाद रफ्तार से काम चल रहा है। नोएडा प्राधिकरण की ओर से भंगेल एलिवेटेड के लिए 42 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई है। यह पैसे सेतु निगम ने क्लेम किए थे। बता दें कि सेतु निगम ने बकाए की राशि के तौर पर प्राधिकरण से पैसों की मांग की थी, जिसे प्राधिकरण ने मंजूर किया है। अथॉरिटी सीईओ डॉ. लोकेश एम ने काम में तेजी के निर्देश इंजीनियरिंग विभाग को दिए हैं।

77 करोड़ रुपए बढ़ कीमत

नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों ने बताया कि एलिवेटेड रोड के काम के लिए किए गए कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार, स्टील की कीमत 77 करोड़ रुपए बढ़ रही है। इसके अलावा 20 करोड़ रुपए सीमेंट और दूसरी सामग्री की बढ़ी है। सामान की मात्रा बढ़ने से इसकी लागत 97 करोड़ 30 लाख रुपए बढ़ गई है। हालांकि इसके बाद अब सेतु निगम इसे बनाने में लगा हुआ है। पिलर बनाये जा चुके हैं। सेतु निगम एलिवेटेड रोड को जल्द बनाने में भी जुटा हुआ है। इस एलिवेटेड रोड के बन जाने से भंगेल, सलारपुर, बरौला, दादरी और ग्रेटर नोएडा में रहने वाले लोगों और कारोबारियों को राहत मिलेगी।

डिजाइन में बदलाव

नोएडा अथॉरिटी के अधिकारियों ने बताया कि इस बीच एलिवेटेड के रास्ते में एक नई बाधा सामने आ गई है। एलिवेटेड रोड की राह में एक बहुमंजिला इमारत सामने आ रही है। इसके लिए डिजाइन में हल्का परिवर्तन करना होगा। प्राधिकरण की टीम ने इसका दौरा किया है और यहां एक मीटर के पियर में बदलाव करना होगा। हालांकि शुरू में यह कहा जा रहा था कि प्राधिकरण डिजाइन में बदलाव नहीं करेगा बल्कि उक्त इमारत का कुछ हिस्सा तोड़ने पर वार्ता चल रही है। लेकिन अब अंतिम तौर पर डिजाइन में बदलाव पर सहमति बन सकती है।

जून 2020 चल रहा काम 

गौरतलब है कि एलिवेटेड रोड का काम जून 2020 से चल रहा है। कोविड के कारण काम रुक गया। फिलहाल सलारपुर से भंगेल तक अधूरे पुल के नीचे का हिस्सा सब्जी मंडी में कन्वर्ट हो गया है। इतना ही नहीं, इधर से आने जाने वालों को भी भारी दिक्कतें हो रही हैं। इस परियोजना में देरी का सबसे अधिक खामियाजा व्यापारियों को उठाना पड़ा है। अनुमान है कि काम शुरू होने के बाद इस प्रोजेक्ट को पूरा होने में करीब एक साल का समय और लगेगा। 75 प्रतिशत काम पूरा हो गया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments