Saturday, April 13, 2024
Homeछत्तीसगढ़क्यों होता है सर्वाइकल कैंसर? किन महिलाओं होती है ये बीमारी, देखें...

क्यों होता है सर्वाइकल कैंसर? किन महिलाओं होती है ये बीमारी, देखें इसके लक्षण

अनूप पासवान/कोरबाः पिछले कुछ सालों में महिलाओं में कैंसर के मामले काफी बढ़े हैं. यहां तक की काफी कम उम्र में भी महिलाओं को कैंसर जैसी दर्दनाक बीमारी से जूझना पड़ता है. वैसे तो कैंसर के अनेक रूप हैं, लेकिन महिलाओं में ज़्यादातर होने वाला सर्वाइकल कैंसर पूरी तरह ठीक हो सकता है. बस इसका सही समय पर पता लगाना जरूरी है. सबसे बड़ी बात यह है कि पूरी तरह ठीक होने वाले इस बीमारी से सर्वाधिक महिलाओं की मौत होती है. मौत का कारण यह होता है कि महिलाएं लक्षण को अनदेखा करती हैं, जिससे लास्ट स्टेज पर उन्हें पता चलता है कि वे सर्वाइकल कैंसर से पीड़ित है. आज

सर्वाइकल कैंसर के लक्षण और बचाव के उपाय को लेकर Local 18 की टीम ने कोरबा के स्वर्गीय बिसाहू दास महंत मेडिकल कॉलेज के स्त्री रोग और प्रसूति रोग विभागाध्यक्ष डॉ.आदित्य सिसोदिया से बात की.
डॉ.आदित्य सिसोदिया ने बताया कि सर्वाइकल कैंसर देश में महिलाओं में सबसे ज्यादा होने वाला कैंसर है. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इस कैंसर को पूरी तरह से रोका जा सकता है. लेकिन लक्षण को अनदेखा करना महिलाओं की सबसे बड़ी गलती होती है और इस वजह से बीमारी का पता लास्ट स्टेज में चलता है और यही कारण है कि सर्वाइकल कैंसर से सबसे ज्यादा मौते देश में हो रही हैं.

सर्वाइकल कैंसर के लक्षण
डॉ आदित्य ने महिलाओं में होने वाले सर्वाइकल कैंसर के लक्षण के बारे में बताया कि यह ज्यादातर 30 से 40 साल की महिलाओं में देखा जाता है. इस कैंसर के लक्षण है, सफेद पानी का आना, मासिक चक्र का अनियमित होना, पेट में अत्यधिक दर्द होना, यूरिन की समस्या होना, यह सभी लक्षण होते हैं. जिन्हें महिलाएं अधिकतर अनदेखा कर देती हैं. इसलिए जब भी कोई ऐसा लक्षण नजर आएं, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए.

वैक्सीनेशन करवाना जरूरी
डॉ सिसोदिया ने सर्वाइकल कैंसर से बचाव के बारे में भी बताया कि इसे पूरी तरह ठीक किया जा सकता है. बस जरूरी है कि समय पर इसका पता चल जाए. इस कैंसर का बचाव बच्चों के जन्म से ही शुरू हो जाता है. इसके लिए वैक्सीन भी तैयार कर ली गई है. जो बच्चे और बच्ची दोनों को लगाई जाती है. बच्चियों को पीरियड शुरू होने के पहले सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए वैक्सीनेशन करवाना जरूरी होता है.

यहां फ्री में होता है चेकअप
उन्होंने बताया कि इसके अलावा, जब भी कोई युवती सेक्शुअली एक्टिव हो जाती है. तब उन्हें हर साल एक बार पैप स्मीयर टेस्ट करवाना चाहिए. यह टेस्ट भी सभी सरकारी अस्पतालों में बिल्कुल फ्री में किया जाता है. यदि महिलाएं इस बीमारी को अनदेखा न करते हुए इसके लक्षण और बचाव पर ध्यान दें, तो वह इस गंभीर बीमारी से बच सकती है.

Tags: Chhattisagrh news, Health benefit, Health tips, Korba news, Local18

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह, एक्सपर्ट्स से की गई बातचीत के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है, व्यक्तिगत सलाह नहीं. इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. Local-18 किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments